Bhojpuri Shayari.

Bhojpuri Shayari, Bhojpuri Shayari Photo, Bhojpuri Shayari image, Bhojpuri Shayari pic, Bhojpuri Shayari sad, Bhojpuri Shayari sms, Bhojpuri Shayari hindi, Bhojpuri Shayari Dowlond, Bhojpuri me Shayari, New Bhojpuri Shayari, Bhojpuri Shayari Love.


Apan Dil Mein Tohar Pyar Ki Dastaan Likhle bani
Na Tani Na dher pura Likhle bani
Kahiyo Hamro khatir Bhi Dua Kar Liha
Kahe Ki Ham Apan Har Ik Saans Tohare Naam Likhle bani
.

हजार चेहरा में एगो तु ही रहल जेकरा पर हम मर मिटली
वर्ना न त चाहत के कमी रहे ना त चाहे वालन क कमी रहे!

Hamar ho ke bhi tu hamar na bhailu,
Badu Duniya me ta milabu kabhi bhale
dosarake To ho gailu, Ihe umid lagawale
rahani ki Tu yi duniya chhod ke na jane ka kho Gailu.

टूटल अईसन दिल आवाज तक ना आईल
हम कईसे जीयत बानी केहू जीके त बतावस


बीना बतवले उ ना जाने काहे हमसे दूरी क लिहलन
बिछड. के ऊ हमार मुहबबत अधूरे छोर दिहलन
हमरे मुककदर में खाली गम बा त का भइल
खुदा उनकर खवाइस त पुरा कर दिहलन

दिलासा देके अब आउर ना सम्हाल हमके
अईसन मखमली तूफान में न पाल हमके
कब ले कौनो अनहोनी क डर रहे
ईहवें रहे द ना निकाल हमके.

kash tu chand hotu,ham ham shitra
ashama me ek ashiyana bhi hamar
dur se duniya ke log dekh ke parsansa
karit,pass se dekhe ke hak sirf hamar hoit
.

आज सोचनी की तोहरा के सपना कही
पर सपना त सच होखेला ना
तू ख्याले में रोज आईल कर
लोग कहेला की ख्याल कबो बदलेला ना.


तहरे दुआ में अटकल रहे हरमे से हमार दिल
न जाने काहे तहरा सिवा कुछ आउर मांगबे ना कइनी

तोहार जिंनगी में हमार नाही रहले क कमी तहके हर रोज खली
रोशनी लाख करब तु अापन जिनगी में पर रौनक नाहीं होई

दिल से निकलल हर बात एगो जज्बात होला
प्यार से बोली वोह बोली के एगो अजबे सौगात होला
कबो आजु ले अघाईल नईखे एह नेह छोह के बोली पे
जब दिल टुटेला त आंखि से भादो असि बरसात होला
.

केकरा के क़ातिल हम कही केकरा के मसीहा समझी
सब तअ ईहां दोस्त ही बाड़न केकरा के का समझी


तोहार दिल हमार दिल बराबर हो नाहीं सकता
उ शीशा हो नाहीं सकता इ पत्थर हो नाहीं सकता
दर्द बा केतना बताई कइसे
अब तू ही बता द भुलाई कइसे.

जिंदगी भर हम जिंदगी से दूर रहनी
तहरा खातिर हम अपनों से दूर रहनी
अब एह से बढ़ के वफ़ा के सजा का होई
तहार हो के तहरो से दूर रहनी

रूह समाईल बा ई देह में, देह इ जहान में फसल बा
ज़िंनगी ईहे सिलसिला से बस आगे बढ़ रहल बा

खालीयो शिशा मे निशान रह जाला
टूटल दिल मे भी अरमान रह जाला
जवन खामोशी से गुजर जाला
उ दरिय़ा भी आपन दिल मे तूफान राखेला.


रात में जागल मत कर् सूत लीहल कर्
अइसहीं मन में आँसू मत रोकल कर् रो लिहल कर्
हमरा ईयाद में त हरमेसे रहेलस गुमसुम
कबो कबो अपनो के ईयाद कर् लिहल कर्

दरद दे के दरद बढावल ना जाला
दीप जलाके दीप बुझावल ना जाला
प्रेम केतनो बढ़ी पर बेगाना ना होई
दिल लगाके दिल हटावल ना जाला.

घुट घुट के भितरे भितरे दर्द के लोर पी रहल बानी
कागज कलम के सँघतिया बना के होठवा के सी रहल बानी
मन होला मर जइतीं उनके चौकठ पर जा के
उनकर बदनामी के डर से आज ले जी रहल बानी

जिनिगी अब पहाड़ जइसन लागे लगल बा
सुखला में बाढ़ जइसे लागे लगल बा
कुछुओ कहाँ बा आपन अब, सब झूठीये के भरम बा
साँसो अब उधार जइसन लागे लगल बा.


तू का बुझअ का होला तनहाई, तू का जनबअ का होला बेवफाई
हई टूटल पाटीये से पुछअ का होला जुदाई, अरे अब केतना जुलम सहीं जालीम
ई रतीये से पुछअ कब तहार याद ना आईल

चढते फगुनवा जियरा जरि गईल हो
हमार सजना सनेहिया बिसार गईलन हो

सब तरहे क सिकवा सह लेही ला
जिनगी य़ेही तरे जी लेही ला
मिला लेही ला हाथ जेसे दोस्ती क
ओइ हाथ से फिर जहरो पीये पड़ेला.

काहो नींद अब त आवल करअ, केहू नईखे अब हमरा पास
जेकरा खातीर तहरा के छोड़ले रहीं
ऊ त अब छोड़ के चल गईनी


ऐसे न चाल चल पवन हरजाई॥
लागल झुलानिया कय तार टूट जायी,
हंस हंस के न बात कर होय जग हसाई
लागल उमारिया कय ले छूट जायी

काश कि ई आंसुवन के साथ तहार याद भी बह जात
त एक दिन तस्सली से बईठ के रो लेंती
.

तनहा रहल त मोहबबत करे वाला क रशम-वफा हवे
अगर फूल खुशी खातिर होत त केहू जनाजा पर नाही डालत

ई फूलन मे अब उ महक कहॉ
इ राह क अब कवनो मंजिल कहॉ
क लेती हम मोम अगर केहू पत्थर दिल होत त
पर इहां त केहू में इंसानी दिल बा कहॉ.


Leave a Reply