Bewafa Shayari In Hindi.

Bewafa Shayari In Hindi, Bewafa Shayari In Hindi With Images, Bewafa Shayari Photo, Bewafa Shayari Pic, Bewfa Shayari Hindi Images, Bewafa Hindi Shayari Photo, Bewafa Hindi Shayari Pic, Bewafa Shayari Hindi Images.

pyar bus itna karo jitna tum sah sako
agar bichdna bhi pade yaar se to zinda rah sako
प्यार बस इतना करो जितना तुम सह सको
अगर बिछड़ना भी पड़े यार से तो जिंदा रहे सको,

kuch dost dost nahi bakli
hamari family hote hai
कुछ दोस्त दोस्त नहीं बल्कि
हमारी फमेली होते है,

mujhe sapna dekhna pasand hai kyu ki
sapne mein tum sirf mere hote ho
मुझे सपना देखना पसंद है क्यों की
सपने में तुम सिर्फ मेरे होते हो,

suna hai log pyar mein jaan bhi de dete hai
jo mujhe waqt nahi dete wo jaan kiya denge
सुना है वो लोग प्यार में जान भी दे देते है
जो मुझे वक़्त नहीं दे देते वो जान किया देंगे,


nafrat bata rahi hai
mohobbat gazab ki thi
नफरत बता रही है
मोहब्बत गज़ब की थी,

khud ke liye ek saja chun li meine
teri khusiyon ke khatir tujhse doriyan karli mein ne
खुद के लिए एक सजा चुनली मैंने
तेरी खुशियों की खातिर तुझसे दुयियाँ करली मैंने,

bohut takleef hoti hai jab dono taraf se pyar ho
lekin kismat mein milna nahi
बहुत तकलीफ होती है जब दोनों तरफ से पियार हो
लेकिन किस्मत में मिलना नहीं,

humhe tum se pyar kitna ye hum nahi jaante
magar jee nahi sakte tumhare bina
हमें तुम से प्यार कितना ये हम नहीं जानते
मगर जी नहीं सकते तुम्हारे बिना,


kisi ko itna mat chaho k phir bhula na sako
yahan logon ko badalne mein dair nahi lagta
किसी को इतना मत चाहो क फिर भुला नासको
यहाँ लोगों को बदलने में देर नहीं लगता,

kal bhi the aaj bhi hai aur humesha rahenge
hum tere bina adhoore
कल भी थे आज है और हमेशा रहेंगे
हम तेरे बिना अधूरे,

hamne bhi kisi se pyar kiya tha
hathon mein phool lekar intezaar kiya tha
bhul unki nahi bhul hamari thi
kyun ki unho ne nahi humne hi unse pyar kiya tha,

ab sikhayat tujh se nahi khud se hai
mana ke saare jhot tere the
par un par yakeen to mera tha
अब शिकायत तुझसे नहीं खुद से है
माना के सारे झुओत तेरे थे पर
उनपर यकीन तो मेरा था,


likhna to tha khush hun tere bagair bhi
aansoon magar kalam se pahle hi gir gaye
लिखना तो था खुश हूँ तेरे बिगैर भी
आंसू मगर कलम से पहले ही गिर गए,

suno nazar andaaz karne wale teri koi khata hi nahi
mohabbat kiya hi thi hai shayad tujhe pata hi nahi,

accha lagta hai tera naam mere naam ke saath
jaise koi khubsurat jodi ho kisi haseen saam ke saath
,

आँखों में अरमान दिया करते है हम सबकी नींद चुरा लिया करते है
अब से जब जब आपकी पलकें झाप्केंगी
समझ लेना तब तब हम आपको याद किया करते है,


शुकरिया आप की इनायत का ग़म की दौलत मुझे अंत कर दी
तुम ने हस हस के इक्तिदा की थी मैंने रो रो के इन्तहा कर दी,

शिकवे तो बोहुत हैं मगर शिकायत नहीं कर सकता
मेरे होंठो को इजाज़त नहीं तेरे खिलाफ बोलने की,

mein ishq uska wo aashiqui hai meri
wo ladki nahi zindagi hai meri
मैं इश्क उसका वो आशिकी है मेरी
वो लकड़ी नहीं ज़िन्दगी है मेरी,

nafrat karni hai to humse is kadar kar
ki iske baad hum mohabbat ke kaabil na rahe
नफरत करनी है तो हमसे इस कदर कर
की इसके बाद हम मोहब्बत के काबिल ना रहे,


Leave a Reply